Posts

इंडिया लॉग बुक

फ्रेंडशिप डे पर अर्ज किया है...

गृहस्थी में ऐसी उलझी ज़िंदगी यारों के दीदार को तरसे कभी फुरसत भी मिली तो यार ना मिले...

आज बैठकर यही सोचते हैं यार ना सही  यारों को भेजे अलफाज तो मिले

चलो, बाकी है...  महक है कुछ उनकी वो ना सही...  पेश किए यारों के नज़राने ही सही

इन नज़राने को पुरानी यादों से  कर लेंगे बंद पलकों में उनका दीदार और उठाएंगे दुआ में हाथ कि छूटे ना कभी यारों का साथ साभार:

जियोफोन से 50 करोड़ उपभोक्ता बाज़ार पर रिलायंस की नज़र

सब चलता है... शराबबंदी भी और शराबखोरी भी...

आधुनिक समय में ज़िंदा हुई पुरातन परंपराएं...

ट्रेलर ऐसा है तो फिल्म कैसी होगी?

एक शाम चांदनी चौक की गलियों के नाम..

ट्वीट वॉर... दे दनादन ट्वीट

शर्म भी, गुस्सा भी.. आखिर कब तक?

राजनीति का थप्पड़ कांड

स्वच्छता में कौन निकला सबसे आगे...

मेरा मसालेदार खाना कहां गया?..

राजधानी के दिल में पायरेसी का स्वर्ग

गौ-तस्करी से उपर.. क्या गायों को मिलेगा सहारा?

सड़कों पर बच्चों का दम घुट रहा था..

योगा से ही होगा...

सूनापन...

क्या होगा इन बच्चों का...