Posts

इंडिया लॉग बुक

मोहब्बतें इजहार

ना मोहब्बतें इजहार ना मोहब्बतें इकरार  किस तरह जानूं तुझे मुझसे है प्यार है तू फिक्रमंद मेरे लिए
नहीं इस बात से इंकार
पर केवल इसी एहसास को कैसे समझ लूं मैं प्यार

खुद को दूर करके भी परखा मैंने
तेरे दिल को क्या है मेरा इंतजार
इतने बेगाने से वो मिला मुझसे
जैसे मिली हूं मैं उससे पहली बार
तो इस एहसास को कैसे समझ लूं प्यार

आता है तू जब भी करीब मेरे
मेरे दिल के दरवाजे पर होते हैं अक्स तेरे
तो क्यूं रह जाते हैं अधूरे अरमान मेरे
कि देखूं अपना भी अक्स दिल में तेरे
कुछ तो कर दिले इजहार
जिस पे कर लूं मैं एतबार
कि तुझे भी है मुझसे प्यार
साभार:दीप्ति

रंजिशें तेरे-मेरे बीच की

रिश्तों के धागे

इक अधूरी सी दास्तां

जब दोस्त हो जुदा

एक एकांत ऐसा भी

रोशनी की ओर

कच्चे मन की उड़ान

रेलवे स्टेशन पर एक सुबह

जूनून से सफलता तक

व्हीलचेयर से आगे हौसले की उड़ान

हर कोई बाबा की शरण में...नेता से लेकर अभिनेता तक

बाबा के भक्तों... कुछ तो अक्ल लगाओ..

फ्रेंडशिप डे पर अर्ज किया है...

जियोफोन से 50 करोड़ उपभोक्ता बाज़ार पर रिलायंस की नज़र

सब चलता है... शराबबंदी भी और शराबखोरी भी...

आधुनिक समय में ज़िंदा हुई पुरातन परंपराएं...

ट्रेलर ऐसा है तो फिल्म कैसी होगी?

एक शाम चांदनी चौक की गलियों के नाम..