ट्रेलर ऐसा है तो फिल्म कैसी होगी?

समाज के एक बड़े हिस्से को सोचने पर मजबूर कर देने की ताकत बहुत कम माध्यमों में होती है. अच्छी फिल्में ना सिर्फ सोचने पर मजबूर करती है बल्कि अंदर तक झिंझोड़ देती है. 'टॉयलेट एक प्रेम कथा' के ट्रेलर को देखने से लगता है कि एक बार में ही इसने एक ऐसी समस्या को छुआ है जिससे हर दिन करोड़ों भारतीय दो-चार होते हैं. शौच की समस्या कोई मामूली परेशानी नहीं है गांवो, कस्बों, शहरों और यहां तक कि महानगरों में भी. जिनके पास दो जून की रोटी तक के लिए पैसे नहीं हैं, रहने के लिए फूस की छप्पर तक नहीं है उनके घरों में शौच के लिए टॉयलेट के बारे में नहीं सोचा जा सकता है. ये तो पैसों वालों के लिए है सामान्य जन के लिए नहीं. 'टॉयलेट एक प्रेम कथा' के ट्रेलर को देखकर लोगों को इस बात का एहसास हो जाता है कि केवल पैसा ही नहीं बल्कि कुछ धार्मिक और मनोवैज्ञानिक परिस्थितियां भी स्वस्थ्य शौच नहीं होने की कारक होती हैं. फिल्म कैसी होगी, ये तो 11 अगस्त को देखने के बाद ही पता लगेगा, लेकिन ट्रेलर फेसबुक और यूट्यूब पर सारे रिकॉर्ड तोड़ रही है. फेसबुक पर ये सबसे ज्यादा देखी जाने वाली फिल्म का ट्रेलर बन गई है. ट्रेलर को अब तक 1 करोड़ 10 लाख बार देखा जा चुका है और ये आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. 
फिल्म के एक्टर अक्षय कुमार ने खुद ट्वीट करके 'टॉयलेट एक प्रेम कथा' के ट्रेलर के प्रति लोगों के रुझान को साझा किया है. इस फिल्म का निर्देशन किया है 'दम लगा के हइशा' के निर्देशक श्रीनारायण सिंह ने.