जब दोस्त हो जुदा

खुशियों का हर पल बिताया संग हमारे
ऐसे ही रंग भरना जो भी हो संग तु्म्हारे
हंसना और हंसाना
ज़िंदगी को यू हीं गुनगुनाना

संग तुम्हारे रहे हमेशा 
खुशियों का खज़ाना
समा लेना हमें
अपने यादों के पन्नों में
जब याद आये हमारी
पा लेना हमें अपनी बंद पलकों में 

और जब रहा ना जाये हम बिन
और हम भी ना रह पाये तुम बिन
समय से करना इजहार
घूमा दे पहिया समय का फिर से एक बार
हो जाये फिर से हमारा दीदार
हमें रहेगा हमेशा तुम्हारा इंतजार
  साभार: दीप्ति